गुरुवार, 27 अगस्त 2009

सबब ................(बवाल)

मैं सब्रो-रंगे-सुकून में हूँ , मुझे संभालो मेरे सहारों

सबब है इस इल्तिजा के पीछे, के चल बसा हूँ ओ मेरे यारों

---बवाल

21 टिप्‍पणियां:

नीरज गोस्वामी ने कहा…

कहाँ चल बसे हैं जनाब...???:))
नीरज

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

भाई हमारी परमिशन के बिना कहीं भी एडमिशन ना मिलेगा. इसलिये चुपचाप हमारे पास ही रहिये.:)

रामराम.

समयचक्र ने कहा…

आप तो पूना से आने के बाद ईद के चाँद हो गए ......और ऊपर से ये जुमला ..भाई साब कहाँ भैय्या ...... सब खैरियत तो है जनाब .आपको याद करते करते थक जाता हूँ ... लगता है जल्दी कचनार घूमने आना पड़ेगा ...

"अर्श" ने कहा…

बड़े भाई साहिब को सलाम कहाँ हो आप .....? वाकई पुणे के बाद तो ईद के चाँद हुए बैठे हो और आते ही जाने की बात कर रहे हो... माहे जम्जान चल रहा है शुक्र है हमारा चाँद दिख गया शुरू में ही और उम्मीद रखता हूँ के ऐसे ही रौशनी बिखेरते रहोगे आप...

अर्श

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

अब आप चल के बसे हैं तो आबाद रहिए। खूब है।

राज भाटिय़ा ने कहा…

अजी कुछ समय रुको भाई ३०,४० सालो तक सब इक्कठे चलेगे... वहा सब मिल कर ब्लांगिग करेगे

Prem Farrukhabadi ने कहा…

Bawal bhai,

tadapane ki hasrat hi mit gayi thi itni der lagadi apne.
aye ho to laga kahin gaye na the mahfil sajadi apne.

Ek film ka geet yaad aa gaya-

aaj mile ho fir, kal miloge fir, parson miloge.jara jaldi jaldi mila karo na ji.

apka sher ek dam sava sher laga badhai!!

Udan Tashtari ने कहा…

ऐसा क्या?

कौन टाईप के हो यार!!

समयचक्र ने कहा…

समयचक्र: चिठ्ठी चर्चा : ये चिठ्ठी शानदार तो नहीं है पर सबको साथ लेकर चलने वाली है .

बेनामी ने कहा…

हाय क्या अदा है, बवाल साहब शेर कहने की । दिल बाग़-बाग़ हो गया। कितनी सहजता से इतनी बड़ी बात कह गए, आप सुभान‍अल्लाह ! एक बात कहें वक़ील साहब, आपकी कहन में दार्शनिक भाव स्पष्ट झलकता है और आप एक बहुत ऊँचे स्तर पर बात करते हैं।

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

बहुत खूब..

प्रवीण जाखड़ ने कहा…

jai LAL-BAWAL ki. achha laga aapke blog par aakar.

शागिर्द - ऐ - रेख्ता ने कहा…

अच्छा है |

अल्पना वर्मा ने कहा…

वाह !आप का एक शेर ही सवा शेर होता है..बहुत खूब कहते हैं!

----
बवाल जी,आप को आप के जनमदिन की ढेरों बधाईयाँ और हार्दिक शुभकामनायें..

"अर्श" ने कहा…

bade bhaee ko salaam ,
aaj janm din ke is mukaddas aur paak mauke ke liye bahot bahot badhaayee is adanaa ke dil-o-khas ki traf se ...


salaam
arsh

JHAROKHA ने कहा…

आदरणीय सर ,
देर से ही सही पर आपको जन्मदिन की हार्दिक बधाई।
आपकी बातों की दार्शनिकता और गहराई मुझे बेहद पसन्द आई है। मेरे ब्लॉग पर आकर मेरा हौसला बढाने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद ॥

खुशदीप सहगल ने कहा…

ओ जाने वाले.. हो सके तो लौट के आना

डुबेजी ने कहा…

jai ram ji ki bhaiya ....har narmade .....kya baat hai sir ...kai din ho gaye....koi phone nahi......

Suman ने कहा…

हो सके तो लौट के आना'

अब आप चल के बसे हैं .



बवाल जी,आप को आप के जनमदिन की ढेरों बधाईयाँ

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी ने कहा…

aur bhai..kahaa the itne din?
देर से ही सही पर आपको जन्मदिन की बधाई....

गिरीश बिल्लोरे 'मुकुल' ने कहा…

मैं सब्रो-रंगे-सुकून में हूँ मुझे संभालो कि न संभालो
मैं चील-कौव्वों के काम आउं - जिन्हौंने अबतक नहीं सताया