शनिवार, 6 सितंबर 2008

इंडिया देट इज़ भारत विच इस नॉट हिन्दुस्तान

कुछ दिन पहले समीरलाल जी के बारे में एक पोस्ट पर श्री संजय बेंगाणी जी ने टिप्पणी देते हुए पूछा था के लाल-एन-बवाल के उपरोक्त शीर्षक का अर्थ समझाया जावे । दरअस्ल हम इसी इंतज़ार में थे के कोई तो हो जो इस बात को पकड़ ले और संजय जी ने आख़िर वो काम कर दिया । अब सवाल यह है के बात छोटी नहीं बहुत मोटी है। लम्बी है। गहरी है। ऊँची है। ना जाने क्या क्या है। इसीलिये जम जम कर होगी । और सब मिलकर करेंगे । क्या मीतजी, नीरजजी, डॉक्टर अमर, सीमाजी, दिनेशजी, रख्शंदा जी, महेंद्र मिश्राजी, हमारे अन्य प्रिय ब्लोग्गेर्स और हाँ हाँ महामना समीरलाल जी इस चर्चा में जुटना पसंद करेंगे ? कविराज राकेश जी इस बारे में क्या सोचते हैं देखते हैं। हमें सब चाहिए, हाँ सब के सब चाहिए । क्योंके आप सब लश्करे-हिंद के जवान हैं । हो सकता है कुछ नया निकल कर बाहर आवे । हो सकता है बवाल हो । और या फिर कमाल हो।

----क्या कहें दीदावरी किस दर्जा हैरानी में है ?
आजकल खुर्शीद इक जुगनू की दरबानी में है !

खुर्शीद = सूरज

4 टिप्‍पणियां:

कामोद Kaamod ने कहा…

'लाल' हो
'बवाल' हो
सवाल हो
कमाल हो.
देखो सवाल-'बवाल' में
कौन सा 'लाल; कमाल हो..
बहुत बढ़िया.

Udan Tashtari ने कहा…

सब बूझ लें तब तो कुछ कहें..... जरा यह निवेदन ध्यान रखो..बाबू!!!


--------------------


निवेदन

आप लिखते हैं, अपने ब्लॉग पर छापते हैं. आप चाहते हैं लोग आपको पढ़ें और आपको बतायें कि उनकी प्रतिक्रिया क्या है.

ऐसा ही सब चाहते हैं.

कृप्या दूसरों को पढ़ने और टिप्पणी कर अपनी प्रतिक्रिया देने में संकोच न करें.

हिन्दी चिट्ठाकारी को सुदृण बनाने एवं उसके प्रसार-प्रचार के लिए यह कदम अति महत्वपूर्ण है, इसमें अपना भरसक योगदान करें.

-समीर लाल
-उड़न तश्तरी

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

क्या कहें दीदावरी किस दर्जा हैरानी में है ?
आजकल खुर्शीद इक जुगनू की दरबानी में है !

khoobsoorat sher ko sahi jagah quot kiya aapne. badhai.

मीत ने कहा…

----क्या कहें दीदावरी किस दर्जा हैरानी में है ?
आजकल खुर्शीद इक जुगनू की दरबानी में है !

बहुत सही है भाई .... और ज़रा जल्दी जल्दी नज़र आयें तो कुछ बात हो !!