बुधवार, 24 सितंबर 2008

नामा-ए-आमाल

जब जब मैं कहता हूँ या अल्ला , या अल्ला मेरा हाल देख !
हुक्म होता है, ख़ुद अपना नामा-ए-आमाल देख !!

------क्या मालूम

नामा-ए-आमाल = कर्मों का लेखा जोखा

4 टिप्‍पणियां:

seema gupta ने कहा…

हुक्म होता है, ख़ुद अपना नामा-ए-आमाल देख !!
" ha ha ha ha, kya galat kya aallah ne , shee to kha na....ab "Bvaal " bole to???

Regards

bavaal ने कहा…

Ha ha,
Aap samajh gaye Seemajee bilkul sahi. Accounts or Audit background ke log hee Nama-e-Aamaal ka matlab sahi samajh sakte hain.
Bavaal bole to . to to to.
Yahi hona chahiye, ke shayar ke shabdik arthon se pare jaker usmain nihit bhav padhe jayen.
Shukriya bahut bahut aapka jee.

Shubhkaamnaon sahit.

Advocate Rashmi saurana ने कहा…

ha ha ha....... bhut badhiya.

प्रदीप मानोरिया ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति . आपका चिठ्ठा जगत में स्वागत है निरंतरता की चाहत है .. मेरा आमंत्रण स्वीकारें मेरे चिट्ठे पर भी पधारें