रविवार, 21 सितंबर 2008

इस्लामाबाद की आग का दर्द

मंज़र ही हादिसे का अजीबोग़रीब था
वो आग से जला जो नदी के क़रीब था ।

-----मलिक ज़ादा मंज़ूर

7 टिप्‍पणियां:

MANVINDER BHIMBER ने कहा…

मंज़र ही हादिसे का अजीबोग़रीब था
वो आग से जला जो नदी के क़रीब था ।

kya baat hai...sunder andaaj

Udan Tashtari ने कहा…

मंजूर साहब का शेर-बहुत उम्दा पेशकश.

seema gupta ने कहा…

वो आग से जला जो नदी के क़रीब था
"uf! kitne badnasebe or badkismtee ..........."

Regards

sachin ने कहा…

http://shayrionline.blogspot.com/

sachin ने कहा…

http://shayrionline.blogspot.com/

बेनामी ने कहा…

I found this site using [url=http://google.com]google.com[/url] And i want to thank you for your work. You have done really very good site. Great work, great site! Thank you!

Sorry for offtopic

बेनामी ने कहा…

Who knows where to download XRumer 5.0 Palladium?
Help, please. All recommend this program to effectively advertise on the Internet, this is the best program!